सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गोल मेज सम्मेलन Round Table Conferences 1930-1932

 गोल मेज सम्मेलन Round Table Conferences 1930-1932

साइमन रिपोर्ट की अपर्याप्तता के जवाब में, श्रम सरकार, जो 1929 में रामसे मैकडॉनल्ड्स के तहत सत्ता में आई थी, ने लंदन में गोल मेज सम्मेलनों की एक श्रृंखला आयोजित करने का फैसला किया।

पहला गोल मेज सम्मेलन 12 नवंबर 1930 से 1 9 जनवरी 1931 तक आयोजित किया गया। सम्मेलन से पहले, एम के गांधी ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की तरफ से नागरिक अवज्ञा आंदोलन शुरू किया था। नतीजतन, चूंकि कांग्रेस के कई नेता जेल में थे, इसलिए कांग्रेस ने पहले सम्मेलन में भाग नहीं लिया था, लेकिन अन्य सभी भारतीय दलों और कई राजकुमारों के प्रतिनिधियों ने किया था। पहले गोलमेज सम्मेलन के नतीजे कम थे: भारत को संघ में विकसित करना था, रक्षा और वित्त के संबंध में सुरक्षा समझौते पर सहमति हुई थी और अन्य विभागों को स्थानांतरित किया जाना था। हालांकि, इन सिफारिशों को लागू करने के लिए बहुत कम किया गया था और भारत में नागरिक अवज्ञा जारी रही थी। ब्रिटिश सरकार ने महसूस किया कि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस को भारत में संवैधानिक सरकार के भविष्य का निर्णय लेने का हिस्सा बनना होगा।

वाइसरॉय लॉर्ड इरविन ने समझौता करने के लिए गांधी से मुलाकात की। 5 मार्च 1931 को वे दूसरे गोलमेज सम्मेलन में कांग्रेस की भागीदारी के लिए मार्ग प्रशस्त करने के लिए झुकाव पर सहमत हुए: कांग्रेस नागरिक अवज्ञा आंदोलन को बंद कर देगी, यह दूसरे गोलमेज सम्मेलन में भाग लेगी, सरकार जारी सभी अध्यादेश वापस लेगी कांग्रेस को रोको, सरकार हिंसा से जुड़े अपराधों से संबंधित सभी मुकदमे वापस ले जाएगी और सरकार नागरिक अवज्ञा आंदोलन में अपनी गतिविधियों के लिए कारावास की सजा से गुजरने वाले सभी व्यक्तियों को रिहा कर देगी।

दूसरा गोल मेज सम्मेलन 7 सितंबर 1931 से 1 दिसंबर 1931 तक लंदन में गांधी और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की भागीदारी के साथ आयोजित किया गया था। सम्मेलन के आयोजन से दो सप्ताह पहले, श्रम सरकार को कंज़र्वेटिव्स द्वारा प्रतिस्थापित किया गया था। सम्मेलन में गांधी ने भारत के सभी लोगों का प्रतिनिधित्व करने का दावा किया। हालांकि, यह विचार अन्य प्रतिनिधियों द्वारा साझा नहीं किया गया था। वास्तव में, कई उपस्थित समूहों के बीच विभाजन एक कारण था कि दूसरे दौर तालिका सम्मेलन के नतीजे फिर से भारत के संवैधानिक भविष्य के संबंध में कोई महत्वपूर्ण परिणाम नहीं थे। इस बीच, नागरिक अशांति फिर से पूरे भारत में फैल गई थी, और भारत लौटने पर गांधी को अन्य कांग्रेस नेताओं के साथ गिरफ्तार किया गया था। सिंध का एक अलग प्रांत बनाया गया था और मैकडॉनल्ड्स के सांप्रदायिक पुरस्कार द्वारा अल्पसंख्यकों के हितों की रक्षा की गई थी।

तीसरा गोल मेज सम्मेलन (17 नवंबर 1932 - 24 दिसंबर 1932) भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस और गांधी ने भाग नहीं लिया था। कई अन्य भारतीय नेता भी अनुपस्थित थे। दो पहली सम्मेलनों की तरह, थोड़ा हासिल किया गया था। सिफारिशें मार्च 1933 में एक श्वेत पत्र में प्रकाशित हुईं और बाद में संसद में बहस हुईं। सिफारिशों का विश्लेषण करने और भारत के लिए एक नया अधिनियम तैयार करने के लिए एक संयुक्त चयन समिति का गठन किया गया था। समिति ने फरवरी 1935 में एक मसौदा विधेयक का निर्माण किया जिसे जुलाई 1935 में भारत सरकार अधिनियम 1935 के रूप में लागू किया गया था।

आयोजक: श्रम सरकार

सम्मिलित लोग:

 आरजे अब्बासी, सीपी रामस्वामी अय्यर, सर सुल्तान अहमद, बीआर अम्बेडकर, राय बहादुर पंडित अमर नाथ अटल, राय बहादुर राजा औध नारायण बिसार्य, पंडित नानक चंद, राव बहादुर कृष्णम चारी, सीवाई चिंतमनी, मौलवी फजल-ए-हक, मोहनदास करमचंद गांधी , एएच गुज़नावी, केवी गोडबोले, खान बहादुर हाफिज हिदायत हुसैन, वजाहत हुसैन, नवाब लियाकत हयात खान, सर अकबर हादारी, मोहम्मद इकबाल, सर मिर्जा इस्माइल, एमआर जयकर, सर कौआजी जहांगीर, मोहम्मद अली जिन्ना, एनएम जोशी, मौलाना मुहम्मद अली जौकर, नवाब महदी यार जंग, पंडित रामचंद्र काक, एनसी केल्कर, खलीकोटे के राजा, सर आगा खान, मालरकोटला के साहिबजादा मुमताज अली खान, भोपाल के नवाब हामिदुल्ला खान, मुहम्मद जफरुल्ला खान, शाफात अहमद खान, मीर मकबुल महमूद, सर मनुभाई एन मेहता, सर बीएन मित्रा, बीएस मूनजे, दीवान बहादुर मुदलियार, सरोजिनी नायडू, बेगम शाह नवाज, केसी नियोगी, मेजर पांडे, राव बहादुर पंडित, केएम पनिककर, सर सुखदेव प्रसाद, पंडित पीएन पाठक, राव बहादुर सर एपी पेट्रो, सर प्र अभशंकर पत्ट्टानी, जीबी पिल्लई, बीआई पोवार, एस कुरेशी, आरके रणदीव, नवनगर के केएस रणजीतिन्हजी, माधव राव, सयाजी राव, सरिला के राजा, तेज बहादुर सप्रू, श्रीनिवास शास्त्री, सीएन सेडॉन, मुहम्मद शफी, महाराजा भूपिंदर सिंह, महाराजा गंगा सिंह, महाराजा हरि सिंह, सरदार उज्जल सिंह, लिंबडी के युवराज श्री दिग्विजय सिंहजी, सर नृपेन्द्र नाथ सरकर, आरके सोराबाजी, राव साहिब डीए सुरवे, सर पुरोशत्दास ठाकुरदास, बीएच जैदी।

आरए बटलर, सर हबर्ट कार, सीएल कॉर्फील्ड, जेसीसी डेविडसन, सर हेनरी गिडनी, विस्काउंट हैलशम, सीजी हर्बर्ट, सर सैमुअल होरे, लॉर्ड इरविन, श्री गेविन जोन्स, लॉर्ड लोथियन, रामसे मैकडॉनल्ड्स (प्रधान मंत्री), लॉर्ड पील, विस्काउंट संकी , सर रिचर्ड चेनविक्स-ट्रेंच, एलएफ रशब्रुक विलियम्स, जेडब्ल्यू यंग, ​​जैकेटैंड की मार्क्विस।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे