सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सविनय अवज्ञा आंदोलन Civil Disobedience Movement

सविनय अवज्ञा आंदोलन Civil Disobedience Movement

12 मार्च, 1930 को, भारतीय स्वतंत्रता नेता मोहनदास गांधी नमक पर ब्रिटिश एकाधिकार के विरोध में समुद्र के लिए एक अपमानजनक मार्च शुरू करते हैं, फिर भी भारत में ब्रिटिश शासन के खिलाफ नागरिक अवज्ञा का उनका सबसे साहसी कार्य।

ब्रिटेन के नमक अधिनियमों ने भारतीयों को नमक इकट्ठा करने या बेचने से रोक दिया, जो भारतीय आहार में प्रमुख है। नागरिकों को अंग्रेजों से महत्वपूर्ण खनिज खरीदने के लिए मजबूर होना पड़ा, जिन्होंने नमक के निर्माण और बिक्री पर एकाधिकार का उपयोग करने के अलावा, भारी नमक कर भी लगाया। यद्यपि भारत के गरीबों को कर के तहत सबसे अधिक नुकसान उठाना पड़ा, लेकिन भारतीयों को नमक की आवश्यकता थी। गांधी ने तर्क दिया कि नमक अधिनियमों को परिभाषित करना, कई भारतीयों के लिए ब्रिटिश कानून को तोड़ने के लिए एक सरल सरल तरीका होगा। उन्होंने ब्रिटिश नमक नीतियों के प्रति सत्याग्रह, या सामूहिक नागरिक अवज्ञा के अपने नए अभियान के लिए एकजुट विषय होने का प्रतिरोध घोषित किया।

12 मार्च को गांधी ने अरब सागर पर तटीय शहर दांडी के 241 मील मार्च को 78 अनुयायियों के साथ साबरमती से बाहर निकला। वहां, गांधी और उनके समर्थक समुद्री जल से नमक बनाकर ब्रिटिश नीति को अपमानित करना चाहते थे। वैसे भी, गांधी ने बड़ी भीड़ को संबोधित किया, और प्रत्येक गुजरने वाले दिन के साथ लोगों की बढ़ती संख्या नमक सत्याग्रह में शामिल हो गई। जब तक वे 5 अप्रैल को दांडी पहुंचे, गांधी हजारों लोगों की भीड़ के सिर पर थे। गांधी ने प्रार्थना की और प्रार्थना की और अगली सुबह नमक बनाने के लिए समुद्र में चले गए।

उन्होंने समुद्र तट पर नमक के फ्लैटों को काम करने की योजना बनाई थी, जो कि हर ऊंचे ज्वार पर क्रिस्टलीकृत समुद्री नमक से घिरा हुआ था, लेकिन पुलिस ने मिट्टी में नमक जमा को कुचलने से उसे जंगली कर दिया था। फिर भी, गांधी नीचे पहुंचे और मिट्टी के बाहर प्राकृतिक नमक का एक छोटा सा टुकड़ा उठाया- और ब्रिटिश कानून का उल्लंघन किया गया था। दांडी में, हजारों लोग अपने नेतृत्व का पीछा करते थे, और बॉम्बे और कराची के तटीय शहरों में, भारतीय राष्ट्रवादियों ने नमक बनाने में नागरिकों की भीड़ का नेतृत्व किया। पूरे भारत में नागरिक अवज्ञा टूट गई, जल्द ही लाखों भारतीयों को शामिल किया गया, और ब्रिटिश अधिकारियों ने 60,000 से अधिक लोगों को गिरफ्तार कर लिया। गांधी को खुद को 5 मई को गिरफ्तार कर लिया गया था, लेकिन सत्याग्रह उनके बिना जारी रहे।

21 मई को, कवि सरोजिनी नायडू ने मुंबई के कुछ 150 मील उत्तर में धारसन साल्ट वर्क्स पर 2,500 मर्चरों का नेतृत्व किया। कई सौ ब्रिटिश नेतृत्व वाले भारतीय पुलिसकर्मी उनसे मिले और शांतिपूर्वक प्रदर्शनकारियों को हराया। अमेरिकी पत्रकार वेब मिलर द्वारा दर्ज की गई घटना ने भारत में ब्रिटिश नीति के खिलाफ एक अंतरराष्ट्रीय चिल्लाहट को प्रेरित किया।

जनवरी 1 9 31 में, गांधी को जेल से रिहा कर दिया गया था। बाद में उन्होंने भारत के वाइसराय लॉर्ड इरविन से मुलाकात की, और भारत के भविष्य पर लंदन सम्मेलन में समान बातचीत भूमिका के बदले सत्याग्रह को बुलावा देने पर सहमत हुए। अगस्त में, गांधी ने राष्ट्रवादी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के एकमात्र प्रतिनिधि के रूप में सम्मेलन की यात्रा की। बैठक निराशाजनक थी, लेकिन ब्रिटिश नेताओं ने उन्हें एक बल के रूप में स्वीकार किया था जो वे दबाने या अनदेखा नहीं कर सके।

अंततः भारत की आजादी अगस्त 1 9 47 में दी गई थी। छह महीने से भी कम समय में एक हिंदू चरमपंथी द्वारा गांधी की हत्या कर दी गई थी

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे